गुरुवार, 7 मई 2009

दो हज़ार पंद्रह

सन् दो हज़ार पंद्रह में जब भारत की धरती पर
प्रभु ने दर्शन दिये किसी को पूजा से खुश हो कर,
बोले-- "जो भी कार चाहिए, तुम बस 'ब्रैंड' बताओ
लेकिन पहले मुझको कोई ख़ाली सड़क दिखाओ !"

2 टिप्‍पणियां:

mahashakti ने कहा…

उम्‍दा व्‍यंग

दिनेशराय द्विवेदी Dineshrai Dwivedi ने कहा…

यथार्थ!